GT Road को क्यों कहा जाता है भारत का उत्तरापथ, जानें

भारत का ग्रैंड ट्रंक रोड यानि GT Road प्राचीन इतिहास का एक प्रसिद्ध मार्ग है। हालांकि, इसके अवशेष अभी भी उपयोग में हैं। यह सड़क भारत के कई राष्ट्रीय राजमार्गों के लिए एक प्रेरणा है।

पढ़ेंः भारत के नक्शे में क्यों दिखाई देता है श्रीलंका, जानें

इस मार्ग को उत्तरापथ भी कहा जाता था और यह प्राचीन भारतीय इतिहास के कई साम्राज्यों की प्रमुख विशेषता थी। 

क्या था उत्तरापथ

यह मार्ग अफगानिस्तान के काबुल से शुरू होकर बांग्लादेश के चटगांव तक जाता था। इसने खैबर बाईपास को कवर किया और रावलपिंडी, अमृतसर, अटारी, दिल्ली, मथुरा, वाराणसी, पटना, कोलकाता, ढाका और चटगांव जैसे शहरों को जोड़ा।

यह 2500 किमी लंबा मार्ग था, जिसे प्राचीन काल में सड़क-ए-आजम, बादशाही सड़क या सड़क-ए-शेरशाह के नाम से जाना जाता था। बाद में अंग्रेजों ने इसका नाम बदलकर ग्रांड ट्रंक रोड रख दिया था।

सड़क अभी भी उपयोग में है और राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों के रूप में है।

उदाहरण के तौर पर अटारी सीमा से जालंधर तक की सड़क को NH3 कहा जाता है। जालंधर से आगरा तक की सड़क को NH44 कहा जाता है, जबकि आगरा से कोलकाता तक इसे NH-19 कहा जाता है। यह राजमार्ग ग्रैंड ट्रंक रोड या सड़क-ए-शेर शाह के समान मार्ग है।

यह एशियाई राजमार्ग नेटवर्क का भी एक हिस्सा है, जिसे 1959 में टोक्यो को तुर्की और इस्तांबुल से जोड़ने का प्रस्ताव दिया गया था, जो अंततः यूरोपीय राजमार्ग नेटवर्क से मिलता है।

See also  Who is Brenna Percy? Hairyboo MA Preschool teacher Libs TikTok exposed

 

wh

उत्तरापथ का इतिहास

यह 3000 साल पहले की बात है, जब उत्तरापथ समस्त एशियाई व्यापार का केंद्र बिंदु बन गया था। यह शब्द पनिहा शब्द से लिया गया है, जिसका उल्लेख अथर्ववेद के पृथ्वी सूक्त में भारतीय उपमहाद्वीप की धमनियों के रूप में किया गया है।

उत्तरापथ का उल्लेख आचार्य पाणिनि और अष्टाध्यायी में भी किया गया है। बौद्धों की कई जातक कथाओं में भी इस मार्ग का उल्लेख है।

मार्ग के दो भाग थे- उत्तरी और दक्षिणी

उत्तरी भाग को हैमवत कहा गया है और दक्षिणी भाग लाहौर को हस्तिनापुर, दिल्ली, प्रयाग, वाराणसी और पाटलिपुत्र से जोड़ता है।

मार्ग पर व्यापारियों के पास एक देवता होता था, जिसे मणिभद्र यक्ष कहा जाता था। आधुनिक समय में इसी देवता की मूर्ति भारतीय रिजर्व बैंक के सामने भी देखी जा सकती है। तब व्यापारी हाथ में मणि की थैली वाली इस मूर्ति की पूजा करते थे।

अर्थशास्त्र में दक्षिणापथ का उल्लेख किया गया है। यह कौशांबी में उत्तरापथ से जुड़ा हुआ था।

गंगा घाटी के आसपास कई महाजनपद इसी उत्तरापथ के आसपास और आसपास स्थित थे।

इस मार्ग से गांधार को बहुत अधिक लाभ हुआ, क्योंकि यह मार्ग पर सीधे स्थित था। कुरु, मत्स्य, कोसल व मगध आदि जैसे आलोस महाजनपद भारत के रेशम मार्ग के उत्तरी भाग पर स्थित थे। दक्षिणी मार्ग पर केवल अवन्ती स्थित थी।

मौर्य काल में उत्तरापथ की शुरुआत अफगानिस्तान के बल्ख से लेकर पश्चिम बंगाल के तमलुक तक हुई थी।

यूनानी राजदूत मेगस्थनीज ने कहा था कि यह मार्ग पाटलिपुत्र को तक्षशिला से जोड़ता है।

See also  Spot a bunny among cats in this amazing optical illusion.

चन्द्रगुप्त मौर्य ने इस मार्ग का पुनर्निर्माण एवं नवीनीकरण करवाया था तथा अशोक ने इस मार्ग के रख-रखाव में काफी प्रयास किये थे। उन्होंने यात्रियों के लिए कई अतिथि गृह और जलाशयों की स्थापना की। समुद्रगुप्त ने भी इस मार्ग के लिए प्रयास किये थे। यह अहोकन युग के शिलालेखों में उल्लेख किया गया है।

शेरशाह और उत्तरापथ की कहानी

-उत्तरापथ की स्थापना शेरशाह सूरी ने की थी।

-शेरशाह ने 1540 में हुमायूं को हराया और सूर राजवंश की स्थापना की।

-साम्राज्य बलूचिस्तान से बांग्लादेश तक फैला हुआ था। चूंकि, शेरशाह अपने राज्य में व्यापार को बहुत महत्व देता था, इसलिए सम्राट ने अपने राज्य में कई सुधार किये ताकि व्यापार हो सके।

-उनके समय में मार्ग पर डाकघर, विश्राम गृह, सूर राजवंश के प्रतीक स्मारक जैसी कई संरचनाएं थीं। कुछ सरंचनाओं सराय कहा जाता था, जहां यात्री आराम करते थे।

मुगलों के समय में उत्तरापथ

शेरशाह की मृत्यु के बाद भी हुमायूं ने सूर साम्राज्य पर कब्जा कर लिया था। मुगलों ने इसे बादशाही सड़क कहा।

अकबर और जहांगीर, दोनों ने इस सड़क के विकास का ध्यान रखा। पूरे मार्ग में कई उद्यान और स्मारक भी बनाये गये।

जागीदार सड़क के चारों ओर विभिन्न मकानों का निर्माण करते थे। इस सड़क पर हर 2 मील पर कोस मीनारें बनाई गईं। यह सड़क का उपयोग करने के लिए एक प्रकार का प्रोत्साहन था।

आधुनिक भारत: उत्तरापथ

अंग्रेज़, चूंकि व्यापारी थे, उनका ध्यान सड़क को व्यापार के लिए बेहतर स्थान बनाने पर केंद्रित था। उन्होंने इसका उपयोग विभिन्न वस्तुओं जैसे कपड़े व कीमती पत्थरों आदि के व्यापार के लिए किया। उन्होंने इसे ग्रैंड ट्रंक रोड कहा।

See also  The first animal you imagine will show you your biggest fear

आधुनिक समय में स्वर्णिम चतुर्भुज मार्ग भारत के रेशम मार्ग के समान मार्ग से होकर गुजरता है।

भारत के सांस्कृतिक विचार भी इसी मार्ग से प्रसारित हुए हैं। हालांकि, इतिहासकार इस बात से सहमत नहीं हैं कि कई समानताओं के बावजूद आधुनिक व्यापार मार्ग इसी मार्ग के समान है।

पढ़ेंः विश्व के 7 महाद्वीप और किस महाद्वीप में हैं कितने देश, जानें

पढ़ेंः भारत में किस शहर को कहा जाता है ‘पहलवानों का शहर’, जानें

 

 

Categories: Trends
Source: tiengtrunghaato.edu.vn

Rate this post

Leave a Comment